मुख्य पृष्ठ पर वापिस जाये
कोरोना ने इंसान को सच का आईना दिखाया, क्या हम सुधरे ? * हिंदुस्तानी है, इतिहास गवाह है हम मुसीबत से घबराते नही है, हरा देते है * राजस्थानी भाषा के संरक्षण में कारगर साबित होगा कैलेंडर- धीरज श्रीवास्तव * मुख्यमंत्री गहलोत ने प्रदेशवासियों से अपील की * भाजपा ने कांग्रेस सरकार के खिलाफ ब्लैक पेपर जारी किया * मैं मौत के मूंह में , लगा इतिहास दोहराया जा रहा है * क्या हमारी भी कोई जिम्मेदारी बनती है ? * अपने और परिवार के बचाव के लिए वैक्सीन लगवाइए, गाइडलाइन की पालना कीजिए * कपासन विधायक प्रत्याशी आनंदी राम खटीक के सुपुत्र विवान चावला की प्रथम पुण्यतिथि पर कपासन विधानसभा क्षेत्र सहित चित्तौड़गढ़,बेगू, बड़ीसादड़ी और निम्बाहेड़ा में भी श्रद्धा सुमन अर्पित कर दी श्रद्धांजलि * कौन डर रहा है वसुंधरा राजे से *
अपने और परिवार के बचाव के लिए वैक्सीन लगवाइए, गाइडलाइन की पालना कीजिए
अपने और परिवार के बचाव के लिए वैक्सीन लगवाइए, गाइडलाइन की पालना कीजिए

मेरी बात/अनिल सक्सेना

सोमवार को सुबह स्वास्थ्य मंत्रालय के अनुसार बीते चैबीस घंटों में देश में कोरोना संक्रमण के 1 लाख 3 हजार 558 मामले दर्ज किए है। कोरोना महामारी के आंकड़ों में हाल के महीने में कमी आने के बाद ये अब तक का सबसे बड़ा आंकड़ा है। मंत्रालय के अनुसार बीते चैबीस घंटों में देश में कोरोना के कारण 478 मौतें हुई है। इसके बाद देश में कोरोना संक्रमण के कुल मामले एक करोड़ पच्चीस लाख से ज्यादा हो गए है जबकी देश में मौतों का कुल आंकड़ा 1 लाख 65 हजार 101 तक पहंुच गया है।

इस आंकड़े को देखकर हमें डरना ही चाहिए और इस डर से छुटकारे के लिए बचाव ही जरूरी है। राजस्थान मीडिया एक्शन फोरम के द्वारा प्रदेश के प्रत्येक जिले में कोरोना गाइडलान के अनुसार ‘पत्रकार चर्चा‘ आयोजित की जा रही है लेकिन अगर सरकार के निर्णय में बदलाव होगा तोे हम अपनी मुहिम को कुछ समय के लिए स्थगित भी कर देंगे क्यों कि हमें अपने आपको और समाज को मुसीबत में नही लाना है।

जिला प्रशासन ने वैक्सीन आसानी से लगाई जाए, इसके लिए माकूल व्यवस्था भी की है। अब हमें चाहिए कि हम कोरोना की गाइडलाइन की पालना करते हुए नियमों के अनुसार वैक्सीन लगाकर स्वयं भी सुरक्षित हो और दूसरों को भी सुरक्षित करे।

राज्य के मुखिया , जिम्मेदार जनप्रतिनिधि और जिला प्रशासन बार-बार आग्रह कर रहा है कि वैक्सीन लगाइए , वैक्सीन से कोई खतरा नही है । सच तो यह है कि हमें अफवाहों पर ध्यान नही देना है और जिला प्रशासन के निर्देशों की पालना करनी है क्यों कि यह भी हमें ही बचाने का प्रयास कर रहें है।

आजकल सोशल मीडिया में चुनाव को लेकर भी बातें की जा रही है कि नेताओं को कोरोना नही होता है क्या ? ये क्यों चुनावी रैली कर रहे है ? क्यांे भीड़ एकत्रित कर रहें है ? सच तो यह है कि एक नियम के अनुसार उपचुनाव और चुनाव कराना जरूरी होता है और राजनीतिक दलों के लिए जीत-हार बहुत मायने रखती है इसलिए चुनाव रैली भी हो रही है और भीड़ भी एकत्रित हो रही है लेकिन हमें चाहिए कि हम अपना और परिवार का बचाव करें । सबसे बड़ी बात यह है कि चुनावी भीड़ में है कौन ? क्या नेता अकेले है ? क्या हम और आप नही है , सोचिए जरूर । लेकिन अपने और अपने परिवार के बचाव के लिए वैक्सीन लगवाइए, कोरोना गाइडलाइन की पालना कीजिए ।

Share News on