मुख्य पृष्ठ पर वापिस जाये
अचंभित रह गया मैं, वकील के अंतिम संस्कार की कहानी * पत्रकारिता की पाठशाला ‘वीर सक्सेना‘ को समर्पित रहेगी फोरम की परिचर्चा, आपको कभी भूल नही पाएंगे भाईसाहब * राजस्थान में मध्यावधि चुनाव हो सकते हैं - पूनिया * राहुल गांधी का राजस्थान दौरा , ट्रेक्टर रैली, महापंचायत और मंदिरों में किए दर्शन * प्रतापगढ़ में बाईपास निर्माण कार्य होगा शीघ्र प्रारंभ-सांसद जोशी * औद्योगिक इकाईयां सीएसआर की राशि स्थानीय क्षेत्र में खर्च करें: आक्या * गहलोत सरकार दो वर्ष के कार्यकाल में हर मोर्चे पर रही विफल - आक्या * मीडिया का गिरता स्तर, जिम्मेदार कौन ? चिंतन जरूरी * चित्तौड़ जिले में भाजपा की हार के लिए सामूहिक जिम्मेदारी - भाजपा जिला अध्यक्ष * पोलिटिकल आइडियोलाॅजी कुछ भी हो लेकिन पत्रकारिता पर हावी क्यों ? *
राजस्थान में मध्यावधि चुनाव हो सकते हैं - पूनिया
राजस्थान में मध्यावधि चुनाव हो सकते हैं - पूनिया

जयपुर (ललकार): राजस्थान भाजपा प्रदेश अध्यक्ष सतीश पूनिया ने प्रेस से वार्ता करते हुए कहा कि राजस्थान में जिस दी मंत्रिमंडल का विस्तार होगा , उस दिन बड़ा विघटन संभव है और हालात ऐसे ही रहे तो राजस्थान में मध्यावधि चुनाव भी हो सकते है।

पूनिया ने कहा कि राहुल गांधी जी कृषि कानूनों पर अधूरा ज्ञान देने की बजाय प्रदेश सरकार के आपसी विग्रह को सँभाले। कृषि कानून अनिवार्य नहीं है, बल्कि वैकल्पिक हैं। किसान अपनी सुविधा अनुसार अपनी फसल कहीं भी और कभी भी बेच सकते हैं एवं कॉन्टेक्ट फार्मिंग में किसान अपनी सहूलियत से कम्पनियों से अनुबंध कर कर सकते हैं, जिसमें जमीन पर मालिकाना हक सदैव किसान का ही होगा। प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी जी के कुशल नेतृत्व में ना केवल देश पूरी तरह सुरक्षित है, बल्कि बुनियादी एवं वैचारिक मुद्दों के समाधान से दुनियाभर में भारत का स्वाभिमान बढ़ा है।

पूनिया ने कहा कि चीन को लेकर प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के बारे में कांग्रेस के पूर्व राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गाँधी द्वारा की गई टिप्पणी अमर्यादित एवं अशोभनीय है, जिसे जायज नहीं ठहराया जा सकता। राहुल जी को इतिहास के बारे में अल्प जानकारी है, उनको अपने नाना नेहरू का इतिहास याद नहीं है, जब वो देश के प्रधानमंत्री थे, तब उन्होंने हिन्दी-चीनी भाई-भाई का नारा दिया था, बावजूद चीन ने भारतीय जमीन पर कब्जा कर लिया था और तत्कालीन नेहरू की सरकार कुछ नहीं कर पाई। वहीं प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के कुशल नेतृत्व में ना केवल देश पूरी तरह सुरक्षित है, बल्कि बुनियादी एवं वैचारिक मुद्दों के समाधान से दुनियाभर में भारत का स्वाभिमान बढ़ा है और देश का हर वर्ग केन्द्र सरकार की जनकल्याणकारी नीतियों से आत्मनिर्भर बन रहा है। राहुल गाँधी प्रदेश के दौरे पर हैं, उन्होंने अपने श्रीमुख से 2018 के विधानसभा चुनाव में कहा था कि कांग्रेस की सरकार बनने के 10 दिन के अन्दर किसानों की सम्पूर्ण कर्जमाफी करेंगे, लेकिन सवा दो साल के शासन में अभी तक यह वादा पूरा नहीं किया है। राहुल जी और गहलोत जी ने झूठ बोलकर प्रदेश के किसानों को ठगने का काम किया है। राहुल गाँधी जी ने तेजाब फिल्म के गाने की तरह 1, 2, 3, 4, 5....गिना था, जितनी देर में कर्ज माफी का वादा किया। इस तरह झूठ बोलकर प्रदेश के किसानों को धोखा दिया। प्रदेश के 59 लाख किसानों का 99 हजार करोड़ रुपये का कर्जा माफ होना बाकी है।

उन्होंने कहा कि पीलीबंगा किसान महापंचायत में भीड़ के नाम पर मनरेगा श्रमिक, आँगनबाड़ी कार्यकर्ता, स्कूल के बच्चों को ले जाया गया। वहाँ आमजन मौजूद नहीं था और ना ही किसान। जुगाड़ कर रैली की गई, जिसमें कांग्रेस पार्टी ने राहुल गाँधी को अवतार बनाने की कोशिश की। राहुल जी की रैली में मंच पर ना कांग्रेसी नेताओं के दिल मिले, ना ही नजरें मिली, विग्रह मंच एवं बाहर दोनों जगह है और खाट भी टूट गई। प्रदेश में कांग्रेस के हालात देखकर स्पष्ट है कि सरकार, विधायक और संगठन के अन्दर मनभेद हैं। इनके संगठन की नीचे तक की इकाइयां पूरी तरह कमजोर हैं।

Share News on