Lalkar
News
Since
1949
Lalkar
News
बेबाक कलम ई पेपर राष्ट्रीय राज्य मनोरंजन खेल धर्मकर्म टेक्नोलॉजी कोरोना अपडेट हेल्थ मीडिया एक्शन फॉरम वीडियो
ललकार समूह की जानकारी के लिए टिक करे
”ललकार“ साप्ताहिक समाचार पत्र 7 जनवरी 1949 से राजस्थान में वीरों की नगरी चित्तौड़गढ़ से निरन्तर प्रकाशित हो रहा है । राजस्थान प्रदेश के सबसे पुराने और विश्वसनीय अखबारों में इसकी गिनती होती है। राजस्थान के कई ख्यातिप्राप्त दिग्गजों ने ”ललकार“ के लिए काॅलम लिखे है और कई वरिष्ठ पत्रकारों, साहित्यकारों के आलेख ललकार में प्रकाशित होते रहे है। मिशन पत्रकारिता करने के लिए ख्यातिप्राप्त ”ललकार“ ने अभी तक जो भी राजनीतिक विश्लेषण किए वे एकदम सटीक हुए है। आमजन की समस्याओं को प्रमुखता से उजागर कर हल करने में कामयाब भी ”ललकार“ समाचार पत्र हुआ है। पत्रकारिता के साथ ही सामाजिक सरोकार के कार्यो को करने में भी सबसे आगे है। वर्तमान में ”ललकार“ साप्ताहिक समाचार पत्र चित्तौड़गढ़ (भारत सरकार का आरएनआई नम्बर 3774) और जयपुर (भारत सरकार का आरएनआई नम्बर RAJHIN/2014/60429 ) से प्रकाशित हो रहा है और ”ललकार टुडे” (भारत सरकार का आरएनआई नम्बर DELHIN/2015/63136) मासिक पत्र दिल्ली से प्रकाशित हो रहा है। ढाई दशकों से भी ज्यादा पत्रकारिता की दुनिया में कार्यरत बेबाक और ललकार कलम के लिए माने जाने वाले राजस्थान मीडिया एक्शन फोरम के अध्यक्ष वरिष्ठ पत्रकार अनिल सक्सेना ”ललकार“ समूह के प्रधान संपादक है । यूथ मूवमेंट के संस्थापक अध्यक्ष शाश्वत सक्सेना समाचार संपादक के रूप में युवाओं की आवाज बने हुए है। शिक्षाविद शांति सक्सेना और एडवोकेट आशी सक्सेना उपसंपादक है। राजस्थान के सभी प्रमुख शहरों और दिल्ली में ”ललकार“ की टीम सच्चाई को प्राथमिकता से प्रकाशित करने में लगी है।
क्या श्रम क़ानून के ऐतिहासिक बदलाव से श्रमिक और नियोक्ता दोनो को मिलेगा फायदा * कृषि विधेयक का विरोध कितना जायज * एहतियात बिना क्या कोरोना बद से बदतर होगा ? * एहतियात बिना क्या कोरोना बद से बदतर होगा ? * कहां जा रही है टीवी पत्रकारिता और हम * अभी राजस्थान कांग्रेस में सबकुछ अच्छा नही * अभी राजस्थान कांग्रेस में सबकुछ अच्छा नही * विशेष समिति निभाएगी सोनिया गांधी के लिए निगरानी और समन्वय की जिम्मेदारी * राजस्थान सरकार के ट्रबल शूटर रहे अविनाश पांडे और अन्य नेताओं को दी अहम जिम्मेदारी * क्या कांग्रेस को आत्मविश्लेषण की जरूरत है ? *
क्या श्रम क़ानून के ऐतिहासिक बदलाव से श्रमिक और नियोक्ता दोनो को मिलेगा फायदा
क्या श्रम कानून के ऐतिहासिक बदलाव से श्रमिक और नियोक्ता दोनो को ही मिलेगा फा.....
कृषि विधेयक का विरोध कितना जायज
कृषि विधेयक का विरोध कितना जायज ?

(अनिल सक्सेना/बेबाक कलम)

राजस्थान सहित क.....

एहतियात बिना क्या कोरोना बद से बदतर होगा ?
क्या हम WHO को गंभीरता से ले रहें है ?

WHO ने कहा कोरोना बद से बदतर होगा, एहतियात ज.....

एहतियात बिना क्या कोरोना बद से बदतर होगा ?
क्या हम WHO को गंभीरता से ले रहें है ?

WHO ने कहा कोरोना बद से बदतर होगा, एहतियात ज.....

कहां जा रही है टीवी पत्रकारिता और हम
कहां जा रही है टीवी पत्रकारिता और हम

(अनिल सक्सेना/बेबाक कलम)

क्या पत्रकार .....

अभी राजस्थान कांग्रेस में सबकुछ अच्छा नही
अभी राजस्थान कांग्रेस में सबकुछ अच्छा नही

अनिल सक्सेना/ बेबाक कलम

राजस्थ.....

अभी राजस्थान कांग्रेस में सबकुछ अच्छा नही
अभी राजस्थान कांग्रेस में सबकुछ अच्छा नही

अनिल सक्सेना/ बेबाक कलम

राजस्थ.....

विशेष समिति निभाएगी सोनिया गांधी के लिए निगरानी और समन्वय की जिम्मेदारी

पिछले महीने हुई कांग्रेस कार्य समिति की हंगामेदार बैठक के बाद अब नेतृत्व क.....

राजस्थान सरकार के ट्रबल शूटर रहे अविनाश पांडे और अन्य नेताओं को दी अहम जिम्मेदारी
राजस्थान सरकार के ट्रबल शूटर अविनाश पांडे और देवेंद्र यादव की संगठन में पदो.....
क्या कांग्रेस को आत्मविश्लेषण की जरूरत है ?
क्या कांग्रेस आलाकमान को आत्मविश्लेषण की जरूरत है ?

(अनिल सक्सेना/ललकार)

‘.....